उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार

  • उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार
  • उत्तर प्रदेश मूल के ऐसे प्रवासी भारतीयों को जिन्होंने उत्तर प्रदेश/विदेश में विनिर्दिष्ट विधाओं में विशिष्ट कार्य किये हों, उन्हें सम्मान स्वरूप “प्रवासी भारतीय उत्तर प्रदेश रत्न पुरस्कार” से पुरस्कृत करने के लिए वर्ष 2015 में एक मार्गदर्शक सिद्धांत/ नियमावली बनाई गयी है जिसे अधिसूचना संख्या-10/93-(NRI)-6-15-03(NRI)/14 दिनांक: 20.01.15 द्वारा प्रख्यापित किया गया है। “प्रवासी भारतीयों को उ.प्र. रत्न पुरस्कार” निम्न विधाओं में विशिष्ट योगदान के लिए प्रदान किये जाते है:-

    • विज्ञान
    • प्रौद्योगिकी
    • संस्कृति
    • चिकित्सा
    • शिक्षा
    • जनसेवा
    • वाणिज्य
    • अन्य क्षेत्र जिसे राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर चिन्हित किया जाए।

    इसे लिए अहर्ताएं निम्नवत है:-

    • उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए
    • प्रवासी भारतीय को सम्बंधित विधा/क्षेत्र में अपनी प्रतिभा और श्रेष्ठ उपलब्धि के भ्रसक निर्विवाद मानदण्डों के आधार पर राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर का ख्याति प्राप्त व्यक्ति होना चाहिए। परन्तु यह कि पुरस्कार व सम्मान प्राप्त करने वाले व्यक्ति के चयन का आधार उनकी सम्पूर्ण उपलब्धि तथा सम्बंधित विधा में योगदान होगा।
    • विशिष्ट व आपवादित परिस्थितियों में विशिष्ट मेरिट के महानुभावों के लिए मा० मुख्यमंत्री जी द्वारा अहर्ताओं में शि‍थिलता प्रदान की जा सकती है।
    • नैतिक अधमता विषयक अपराध के अपराधी को “उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार” नही प्रदान किया जाएगा।
    • छद्म/छल से प्राप्त “उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार” वापस ले लिया जाएगा।

    निर्धारित चयन प्रक्रिया के अंतर्गत वेबसाइट- upnri.com पर ऑनलाइन व अन्य माध्यमों से आवेदन पत्र प्राप्त किये जाते है।

    स्क्रीनिंग कमेटी का स्वरूप :-

    क्र.सं. पद सदस्य

    प्रमुख सचिव, प्रवासी भारतीय विभाग, उ.प्र. शासन।

    अध्यक्ष

    सचिव/विशेष सचिव, प्रवासी विभाग, उ.प्र. शासन।

    सदस्य सचिव

    संयुक्त अधिशासी निदेशक, उद्योग बन्धु

    सदस्य

    “उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार” के चयन हेतु नियमावली के बिंदु-(6) में प्रक्रिया का निर्धारण किया गया है जिसके अनुसार- “निर्धारित तिथि तक प्राप्त होने वाले नामांकनों का परीक्षण संयुक्त अधिशासी निदेशक, उद्योग बन्धु, उत्तर प्रदेश द्वारा किया जायेगा तथा परीक्षणोंपरांत समस्त नामांकन पत्रों का विभिन्न विधा क्षेत्रों के अनुसार वर्गीकरण किया जायेगा। एतदपश्चात संयुक्त अधिशासी निदेशक, उद्योग बन्धु, उत्तर प्रदेश द्वारा विधावार विवरण स्क्रीनिंग कमेटी के समक्ष विचार हेतु प्रस्तुत किया जायेगा। “ “उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार” के चयन हेतु नियमावली के बिंदु-(7) में प्राविधानित है कि प्रमुख सचिव, एन.आर.आई.विभाग, उ.प्र. शासन की अध्यक्षता में गठित स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक के उपरांत सचिव, स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा नियमावली में उल्लिखित विधाओं में प्राप्त नामांकनों एवं सूची का विवरण (परीक्षणोंपरांत) पुरसकार हेतु गठित चयन समिति के समक्ष विचार हेतु प्रस्तुत किया जायेगा।

    मार्गदर्शक सिद्धांत (प्रथम संशोधन)-2018 के अनुसार रत्न पुरस्कार का गरिमामयी सम्मान किसी व्यक्ति को उसके जीवन काल में एक ही बार प्रदान किया जाएगा अर्थात जिन महानुभाव/महानुभावों को पूर्व में रत्न पुरस्कार मिल चुका है, उनके आवेदनों पर विचार नहीं किया जायेगा।

    “उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार” के लिए अधिसूचना संख्या-425/93-19-03NRI/2014, दिनांक:02.09.2019(प/स) में “चयन समिति” का नवीनतम संशोधित स्वरूप निम्नवत निरूपित किया गया है:-

    क्र.सं. पद सदस्य
      मा० मंत्री जी, प्रवासी भारतीय विभाग, उ.प्र. शासन अध्यक्ष
      प्रमुख सचिव, प्रवासी भारतीय विभाग सदस्य
      प्रमुख सचिव, उच्च शिक्षा विभाग सदस्य
      प्रमुख सचिव, संस्कृति विभाग सदस्य
      प्रमुख सचिव, इलेक्ट्रानिक्स विभाग सदस्य
      प्रमुख सचिव, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग सदस्य
      प्रमुख सचिव, पर्यटन विभाग सदस्य
      विदेश मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा OIA (ओवरसीज़ ऑफ़ इंडियन अफेयर्स) डिविज़न से नामित अधिकारी सदस्य
      विदेश मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा “कांफ्रेंस” डिवीज़न से नामित अधिकारी सदस्य
      सचिव अथवा विशेष सचिव, प्रवासी भारतीय विभाग सदस्य सचिव

    पुरस्कार:-

    “उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार” के अंतर्गत पुरस्‍कृत महानुभावों को प्रशस्ति पत्र के साथ अंगवस्त्रम एवं स्मृति चिन्ह (मोमेंटो) प्रदान किये जाते है। सम्मानित महानुभावों को पुरस्कार स्वरूप कोई नगद धनराशि प्रदान नही की जाती है।

    अभियुक्ति- सम्मान समारोह में भाग लेने हेतु पुरस्कृत महानुभावों को आने-जाने का वायुयान का किराया (बिजनेस क्लास) तथा उनके आवास की व्यवस्था उपयुक्त होटल में की जाती है।

    रत्न पुरस्कार हेतु मार्गदर्शक सिद्धांत/नियमावली के बिंदु-(5)(v) में यह स्पष्ट व्यवस्था की गयी है कि- “छद्म/छल से प्राप्त “उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार” वापस ले लिया जायेगा।

    पुरस्कार प्रारम्भ होने के वर्ष-2016  से अब तक चयन की प्रक्रिया उक्त नियमावली के अंतर्गत निर्विवादित संपन्न हुई है।

    विगत वर्षों में हुए चयन:-

    दिनांक:04-06 जनवरी, 2016 प्रथम प्रवासी दिवस (आगरा)

    चयनित महानुभावों की संख्या-16

    क्र.सं. नाम देश
      श्रीमती अलका भटनागर यू.एस.ए
      श्री अशूक के॰ रामसरन यू.एस.ए
      श्री बासदेव पाण्डेय त्रिनिदाद
      डॉ. अतात आर. खान सऊदी अरब
      डा॰ कृष्ण कुमार यू.एस.ए
      डॉ. नंदिनी टंडन यू.एस.ए
      डॉ. राजेन प्रसाद न्यूजीलैंड
      डा॰ राजिन्द्रे तेवारी नीदरलैंड
      डॉ. श्री नाथ सिंह यू.एस.ए
      श्री फ्रैंक एफ इस्लाम यू.एस
      श्री नदीम अख्तर तरीन यू.ए.ई.
      प्रो0 राजेश चन्द्र फिजी
      श्रीमती सुमन कपूर न्यूजीलैंड
      श्रीमती तलत एफ हसन यू.एस.ए
      श्रीमती कंवल रेखी यू.एस.ए
      लार्ड खालिद हमीद यू.के

    दिनांक:04-06 जनवरी, 2017 द्वितीय प्रवासी दिवस (लखनऊ)

    चयनित महानुभावों की संख्या-16

    क्र.सं. नाम देश विषय
      प्रोफ़ेसर डॉ पीयूष गोयल यू.के विज्ञान
      श्री ज्ञानेंद्र कुमार सिंगापुर प्रोद्योगिकी
      कु० अदिति श्रीवास्तव यू.एस.ए. संस्कृति
      श्री अजेश महाराज साऊथ अफ्रीका चिकित्सा
      श्री शेर बहादुर सिंह यू.एस.ए शिक्षा
      श्रीमती तबस्सुम मंसूर लीबिया शिक्षा
      श्री श्रीकृष्ण के० पाण्डेय यू.एस.ए जन सेवा
      श्रीमती प्रतिभा शालिनी तिवारी यू.एस.ए जन सेवा
      श्रीमती वीना भटनागर फिजी जन सेवा
      श्री जतिन के० अग्रवाल यू.एस.ए वाणिज्य
      श्री विनोद गुप्ता यू.एस.ए वाणिज्य
      श्री वी.एस.नाय पाल त्रिनिदाद एवं टोबागो अन्य (लेखक)
      श्री राजीव भामरी यू.एस.ए अन्य (पत्रकारिता)
      श्री सुरेश चन्द्र शुक्ला नोर्वे अन्य (पत्रकारिता)
      डॉ. सतीश राय ऑस्ट्रेलिया अन्य (शिक्षा)
      डॉ. सुधीर राठौर यू.के चिकित्सा

    यू.पी. इन्वेस्टर्स समिट-2018 के दौरान दिनांक: 22 फरवरी,2018 को संपन्न एन.आर.आई सेशन में चयनित महानुभावों (संख्या-10):-

    • डॉ संहिता अग्निहोत्री (Dr Sanhita Agnihotri), शिकागो, अमेरिका
    • श्री ज्ञानेश्वर आनंद (Shri Gyaneshwar Anand), एथेंस, ग्रीस
    • सुश्री मधुलिका रा चौहान (Ms Madhulika Ra Chauhan) चाइना
    • डॉ संजय मेहरोत्रा (Dr Sanjay Mehrotra) जापान
    • डॉ तरूण पाण्डेय (Dr Tarun liandey) अमेरिका
    • श्री रवि राय (Shri Ravi Rai) सिंगापुर
    • डॉ अंकित सरीन (Dr Ankit Sarin) अमेरिका
    • श्री अरूण श्रीवास्तव (Shri Arun Srivastava) अमेरिका
    • श्रीमती दिव्या तुली (Ms Divya Tuli) लंदन, यू.के.
    • पं० ज्ञान प्रकाश उपाध्याय (lit. Gyan lirakash Uliadhayay) अमेरिका

    15वें प्रवासी भारतीय दिवस-2019 (वाराणसी) के आयोजन में स्टेट-सेशन के रूप में दिनांक-21.01.19 को सम्पन्न "उत्तर प्रदेश प्रवासी दिवस" के अवसर पर "उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार" से सम्मानित महानुभावों (संख्या-08) की सूची:-

    क्र.सं. देश नाम मूल निवासी विधा/क्षेत्र
      न्यूयार्क, यू0एस0ए0 सुश्री योशिता सिंह लखनऊ पत्रकारिता व अन्य
      यू0एस0ए श्री हरि बी0 बिंदल आगरा पर्यावरण, प्रौद्योगिकी, साहित्य व अन्य
      साउथ कोरिया श्री धनन्जय सिंह प्रयागराज प्रौद्योगिकी
      लीबिया श्री अरिफुल इस्लाम अलीगढ जन-सेवा
      बोत्सवाना श्री जमाल अहमद बिजनौर वाणिज्य व अन्य
      यू0एस0ए0 श्री संजीव राजौरा गाजियाबाद राजनीति व जन-सेवा
      मॉस्को, रूस डॉ0 रामेश्वर सिंह सुल्तानपुर राजनीति, संस्कृति व अन्य
      कैलिफोर्निया, यू0एस0एस0 श्री अमित आई. श्रीवास्तव लखनऊ जन-सेवा

    अभ्युक्ति : उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार हेतु अधिकतम संख्या 08 का निर्धारण नियमावली/मार्गदर्शी सिद्धांत के प्रथम संशोधन दिनांक 01 मई, 2018 द्वारा किया गया है।

    क्र.सं. प्रारम्भिक दिनांक अंतिम दिनांक
    - -
    - -


    नोट: पुरस्कार हेतु आवेदन प्रारंभ होने पर आपको सूचित किया जाएगा।

    ऑनलाइन सेवाओं हेतु यहां क्लिक करें