राज्य प्रोफ़ाइल

  • राज्य प्रोफ़ाइल
  • उत्तर प्रदेश वह इंद्रधनुषी भूमि हैं जहा पुरातन काल से भारतीय संस्कृति खिली | विविध भौगोलिक भूभागों व सांस्कृतिक विविधताओं के आशीष से युक्त उत्तर प्रदेश ऐतिहासिक नायकों यथा राम, कृष्ण, बुद्ध, महावीर, अशोक, हर्ष अकबर तथा महात्मा गांधी की कर्मस्थली रहा है |

    राज्य प्रोफ़ाइल

    नोट यह मानचित्र केवल ग्राफ़िक प्रतिनिधित्व के तौर पर सरल पथ प्रदर्शन हेतु रखा गया है तथा यह क्षेत्रों की राजनैतिक सीमाओं से सम्बद्ध नहीं है |.

    बड़े बड़े शांत व समृद्ध घास के मैदान, पानी से भारी नदियाँ, घनी वन भूमि, उत्तर प्रदेश की उपजाऊ भूमि ने भारत के क्रमिक इतिहास में अनेकों स्वर्णिम अध्यायों का योगदान दिया है | पवित्र गुफ़ाओं व तीर्थ स्थानों से परिपूर्ण, आनंदमयी उत्सवों से भरे इस राज्य की देश की राजनीति शिक्षा, संस्कृति, उद्योग, कृषि व पर्यटन में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका है |

    भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार दो पवित्र नदियों गंगा और यमुना का हार लपेटे यह राज्य पूर्व में बिहार, दक्षिण में मध्य प्रदेश, पश्चिम में राजस्थान, दिल्ली व हरियाणा, उत्तर पश्चिम में हिमाचल प्रदेश व उत्तर में उत्तराखंड व नेपाल देश की सीमाओं को स्पर्श करता यह राज्य भारतीय सुरक्षा की रणनीतिक महत्ता का एक स्तम्भ है |

    इसका 2,36,286 वर्ग किमी का क्षेत्रफल 240 से 310 अक्षांस तथा 770 से 840 पूर्वी देशांतर तक फैला है | क्षेत्रफल के अबूसार यह देश का चौथा बड़ा राज्य है | विशालता को सरसरी तौर पर देखते हुए यह राज्य फ्रांस के क्षेत्रफल का आधा, पुर्तगाल का तीन गुना, आयरलैंड का चार गुना, स्विट्ज़रलैंड का सात गुना, बेल्जियम का दस गुना व इंग्लैंड से थोड़ा बड़ा है |

    ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी अवध के तीसरे नवाब के शासनकाल में अवध शासकों के संपर्क में आई | निस्संदेह उत्तर प्रदेश का इतिहास ब्रिटिश शासन के पूर्व व पश्चात, देश के इतिहास के साथ साथ चला परंतु यह सर्व विदित है कि राज्य के लोगों का राष्ट्रीय स्वतन्त्रता आंदोलन में योगदान महत्त्वपूर्ण रहा है |

    राज्य एक दृष्टि में

    “मैं यूरोप, एशिया व मध्य पूर्व के अन्य देशों में गया हूँ परंतु उनमें से किसी में उत्तरी भारत के इस राज्य की तुलना में आधी विविधताएँ भी नहीं हैं, या इतना कुछ नहीं है जिसे देखा, अनुभव किया अथवा याद रखा जा सके | आप आस्ट्रेलिया के इस छोर से उस छोर तक सफर करें, परंतु इस विशाल महाद्वीप में आपको हर जगह लोग एक से परिधान में नज़र आएंगे, एक ही प्रकार का भोजन प्रयोग करते लोग, एक प्रकार का ही संगीत सुनते लोग | यह रंग हीन एकरूपता पूर्वी व पश्चिमी विश्व के अन्य देशों में भी दिखाई देती है | परंतु उत्तर प्रदेश स्वयं में एक विश्व है” – रस्किन बॉन्ड |

    सांस्कृतिक व भौगोलिक विविधता की भूमि, असंख्य शांत घास के मैदानों के विस्तार, पानी से भारी रहने वाली नदियों, सघन वनों तथा उपजाऊ भूमि से समृद्ध उत्तर प्रदेश देश की राजनीति, शिक्षा, संस्कृति, उद्योग, कृषि व पर्यटन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है |

    प्रदेश को देश में सबसे बड़े पर्यटन गंतव्य के रूप में जाना जाता है | यह भारत के उत्तरी भाग में स्थित है तथा उत्तरांचल, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश तथा पड़ोसी देश नेपाल इसकी सीमाओं को स्पर्श करते हैं |

    गंगा – यमुना का हार लपेटे इस राज्य के उत्तर में हिमालय स्थित है | गंगा – यमुना की पूरी लंबाई में उनके उद्गम स्थल से लेकर डेल्टा तक सम्पूर्ण भूमि नयनाभिराम स्थानों व तीर्थ केन्द्रों से भरी है |

    उत्तर प्रदेश जो राम, कृष्ण, बुद्ध व महावीर की धरती है, का एक गौरवपूर्ण इतिहास है | रामायण तथा महाभारत महाकाव्यों की रचना उत्तर प्रदेश में ही हुई, वह भूमि जिसकी गाथा युगों से चली आ रही है, भगवान राम व उनकी राजधानी अयोध्या की कथाएँ, बुद्ध व उनकी शिक्षाएँ, मुग़ल व उनकी कला, संस्कृति तथा उत्कृष्ट वास्तुकला, ब्रिटिश कालीन कथाएँ तथा 1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम की कथाएँ प्रदेश के इतिहास में समाहित हैं |
    यह भारत के सर्वाधिक देखे जाने वाले स्थल, ताज महल का गृह स्थान है, प्राचीनतम तथा पवित्र नगरी वाराणसी, असंख्य गुफ़ाओं तथा तीर्थस्थलों का यह गृह स्थान भारतीय लोगों के जीवन में विशेष महत्ता रखता है | उत्तर प्रदेश में अनेकों अति सम्मानित मुस्लिम तीर्थस्थल भी हैं यथा दरगाहें, मस्जिदें तथा मकबरे तथा यह बौद्ध मत की हृदयस्थली व जैन मत की उद्गम स्थलीभी है |
    उत्तर प्रदेश में मथुरा – वृन्दावन जैसे कुछ अन्य नगर भी हैं जो आपके अंतकरण को शुद्ध व शांत कर देंगे तथा आपकी तीर्थयात्रा को पूर्णता शांतिदायी व पारलौकिक बना देंगे |
    भारतीय शास्त्रीय नृत्य के आठ रूपों में से एक कटक, का उद्गम उत्तर प्रदेश से ही हुआ है | प्रदेश के व्यंजनों में अवधी व्यंजन व मुगलई व्यंजन न केवल देश में अपितु विदेशों में भी प्रसिद्ध हैं |

    उत्तर प्रदेश खरीददारों के सुख के लिए जाना जाता है | पूरे देश में आपको कहीं भी उत्तर प्रदेश जितनी विस्तृत उत्पादों की श्रृंखला नहीं मिल सकती | मुरादाबाद अपनी पीतल व तांबे की वस्तुओं के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है | निकटवर्ती अलीगढ़ अपने तालों के लिए मशहूर है, फिरोज़ाबाद चूड़ियों के लिकये प्रसिद्ध है तो अवध क्षेत्र का लखनऊ कपड़ों पर चिकनकारी के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है | पूर्वी उत्तर प्रदेश में वाराणसी, ज़रदोज़ी कार्य के लिये जाना जाता है | यह शहर अपनी साड़ियों के लिए भी प्रसिद्ध है |  भारतीय विवाह समारोहों  में बनारसी साड़ी खरीदना

    आवश्यक माना जाने जैसा है |  बरेली ज़रदोज़ी के लिए मशहूर है तो सहारनपुर लकड़ी पर सुंदर नक्काशी हेतु प्रसिद्ध है |
    उत्तर प्रदेश के लगभग सभी शहरों में यहाँ की समृद्ध कला, संस्कृति व परंपरा के कारण आपको देने के लिए कुछ है, जो प्रदेश में खरीददारी के लिए लोकप्रिय सामान बनाते हैं |

    प्रमुख तथ्य

       
    अक्षांस 23052’ to 310 28’ उत्तर
    देशांतर 770 31’ to 840 39’ पूर्व
    क्षेत्रफल 2,40,928 वर्ग किमी
    समय क्षेत्र 5:30 जी॰एम॰टी॰ से अधिक
    अंतराष्ट्रीय दूरभाष कूट श्रृंखला +915 से प्रारम्भ होती है
    जनसंख्या (2011 की जन गणना का अनंतिम डाटा) 19,95,81,477
    (अ)पुरुष 10,45,96,415
    (ब) महिलाएं 94,985,062

    कुल साक्षरता दर

       
    व्यक्ति 67.7 प्रतिशत
    अ)पुरुष साक्षरता 77.3 प्रतिशत
    महिला साक्षरता 57.2 प्रतिशत

    स्रोत: पृष्ठ 611 (वार्षिकी – उत्तर प्रदेश - अनुभाग – उत्तर प्रदेश एक दृष्टि में)

    अन्य सूचनाएँ

       
    राजधानी लखनऊ
    भाषा हिन्दी, उर्दू, अंग्रेज़ी
    उच्च न्यायालय प्रयागराज
    खंडपीठ लखनऊ
    जनपद 75
    नगर व कस्बे 689
    विकास खंड 820
    नगर निगम 12
    उत्तर प्रदेश से लोक सभा सदस्य 80
    उत्तर प्रदेश से राज्य सभा सदस्य 30
    उत्तर प्रदेश की विधान सभा के सदस्य 404
    उत्तर प्रदेश की विधान परिषद के सदस्य 100
    फसलें चावल, गेहूं, जौ, बाजरा, मक्का, उरद, मूंग, अरहर इत्यादि |
    फल आम , अमरूद
    हस्त शिल्प चिकन कार्य, कढ़ाई, फ़र्नीचर, मिट्टी के खिलौने, कालीन बुनाई, सिल्क, चूड़ियाँ व पीतल का कार्य |
    प्रमुख उद्योग सीमेंट, वनस्पति तेल, कपड़े, सूती धागा, चीनी, जूट, ताले, कालीन, पीतल की वस्तुएँ, काँच की वस्तुएँ, चूड़ियाँ तथा संगमरमर जड़ाई इत्यादि |
    नदियां गंगा, यमुना, गोमती, राम गंगा, घाघरा, बेतवा, केन
    लोक नृत्य चरकुला, कर्मा, पांडव, पाई-डंडा, थारू, धोबिया, राई, शाइरा इत्यादि
    पर्यटन व ऐतिहासिक स्थल आगरा, मथुरा -वृन्दावन, अयोध्या, प्रयागराज, कौशांबी (बुद्धिस्ट सर्किट), कपिलवस्तु, कुशीनगर, सनकिसा, श्रावस्ती, सारनाथ (वाराणसी), चित्रकूट, लखनऊ, झाँसी इत्यादि |
    अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे लखनऊ व वाराणसी
    आपात कालीन संपर्क नंबर
    पुलिस 100
    अग्निशमन 101
    एम्बुलेंस 102
    महिला हेल्प लाइन 1090

    स्रोत : जनगणना निदेशालय व सांख्यिकीय विभाग उत्तर प्रदेश, लखनऊ

    अधिक जानकारी हेतु नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

    www.uptourism.gov.in